मेरी प्रेमिका की सर्मिली संगी की पुददी मारी

इन्टरनेट पर एक लड़की से मेरी बात हुई, मैंने उसे अपनी फोटो भेजी, उसने भी अपनी तस्वीर मुझे भेजी, वो भी बहुत खूबसूरत थी।
रोज हमारी बात होती, वो भी गुजरात में ही रहती थी, थोड़े दिनों में हमारी बातचीत खुली हो गई, अब वो मुझसे मिलना चाहती थी।
फिर हम एक दिन साउथ एक्स में मिले।
वो मुझे बहुत पसंद करने लगी। फिर मुलाकातें बढ़ने लगी, कभी कभी हम छोटी मोटी किस भी कर लेते थे।
फिर एक दिन मुझे उसने अपने घर बुलाया, शायद उस दिन उसके घर कोई नहीं था, मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था।
मैंने घण्टी बजाई तो वो बाहर आई, उसने सेक्सी सा लाल रंग का गाऊन पहना था और वो बहुत सेक्सी लग रही थी!
मैं उसके घर के अंदर गया, उसका घर ठीक-ठाक था।
मैंने देखा कि सच में उसके घर पर कोई नहीं था।
मैं सोफे पर बैठ गया और वो मेरे लिए चाय बनाने चली गई।
तभी अंदर से कुछ आवाज़ें आने लगी।
मैंने सुना, अन्दर झांका तो मैं जान गया कि उसकी एक सहेली उसके घर पर थी, वो थोड़ी मोटी सी पर माल थी, जींस ओर टॉप पहन रखा था उसने!
मुझे देख वो मेरे पास आई!
ओह सॉरी… दोनों का नाम बताना तो मैं भूल ही गया, मेरी गर्ल फ्रेंड का नाम सिमरन है ओर उसकी सहेली का नाम ज्योति है!
वो दोनो मेरे पास आकर बैठ गई।
सिमरन ने अपनी सहेली का परिचय करवाया।
तभी मेरी गर्ल फ्रेंड सिमरन ने मुझे कोई बात बताने के लिए मुझे उठने के लिए बोला।
मैं उठ कर उसके पीछे गया तो वो बाथरूम की ओर जा रही थी, अंदर आते ही उसने मुझे पकड़ लिया और चूमने लगी।
थोड़ी देर बाद मैंने भी उसे दबाना चालू कर दिया, वो गर्म हो गई थी।
मैंने आज पहली बार उसके चूचे शर्ट से बाहर निकाले और उन्हें चूमना शुरू कर दिया।
उसने मेरे गालों पर हाथ रखकर बोला- मेरी सहेली का कोई बॉय फ्रेंड नहीं है तो वो भी तुमसे आज मिलना चाहती है और मैं भी।
मैं समझ गया कि दोनों आज चुदना चाहती हैं, मैंने कहा- ठीक है।
मैंने जितना सोचा भी नहीं था, उससे ज़्यादा मिल रहा है आज!
मेरा लौड़ा खड़ा हो रहा था उन दोनों को देख कर!
हम बाहर आए तो सिमरन ने बोला- चलो, मेरे कमरे में चलते हैं!
हम उसके कमरे में चले गये और मैं बेड पर बैठ गया, वो दोनों खड़ी थी!
सिमरन मेरे ऊपर आकर मुझे किस करने लगी, लेकिन ज्योति शर्मा रही थी, वो मेरे पास आकर बैठ गई।
मैंने सिमरन का गाउन उतार दिया और उसके बूब्स को चूमने लगा और सिमरन ज्योति को किस करने लगी।
मेरा लौड़ा पूरा खड़ा हो गया था!
कुछ देर बाद मुझे लगा कि कोई मेरे पैंट की जिप खोल रहा है, और वो ज्योति थी, उसने भी अपने कपड़े उतार दिए थे, उसने मेरा लौड़ा बाहर निकाल लिया, वो देखते ही डर गई, सिमरन ने भी मुड़ कर देखा और नीचे उतर गई और मेरे लण्ड को ध्यान से देखने लगी!
दोनों देख कर डर गई थी कि इतना बड़ा हम कैसे ले पाएँगी!
मैंने दोनों के बाल पकड़े और दोनों को लौड़े पे किस करवाया।
दोनों मस्त होकर चूसने लग गई।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
कुछ देर बाद मैं सिमरन को अपने ऊपर लेके उसकी चूत चाटने लगा, वो सिसकारियाँ लेने लगी- आआआहहह… चूसो मुझे… चूसो ज़ोर से…
उसकी आवाज़ें सुन कर मैं भी मदहोश होने लगा!
वहाँ मेरी गर्लफ़्रेंड की शर्मीली सहेली ज्योति मेरे लौड़े को पूरा अंदर लेने की कोशिश कर रही थी!
मुझे मज़ा आ रहा था!
मैंने ज्योति को अपने कपड़े उतारने को कहा!
अब हम तीनो नंगे थे!
सिमरन चिल्लाने लगी- अब मुझे चोद दो प्लीज़ ! अब नहीं रहा जाता!
मैंने उसे अपने लण्ड पर बिठाया ओर उसकी चूत पर अपने लण्ड को टीका कर ज़रा सा अंदर किया, वो अंदर चला गया!
मुझे लगता हे वो पहले किसी से चुदवा चुकी थी, पर कोई बात नहीं !
मैंने ज्योति को देखा, वो शर्मा रही थी।
मैंने उसके मम्मे पीने शुरू किए, उसको मज़ा आ रहा था, अब मैं उसकी चूत पर उंगली फिराने लग गया।
वहाँ सिमरन ज़ोर ज़ोर से मेरे लौड़े पर झटका मार रही थी और आवाज़ें निकल रही थी- आहह… हह… हआआ… आआ मर गई।
थोड़ी देर में ही वो झर गई और मेरी बगल में आकर लेट गई!
मैं ज्योति की चूत चाट रहा था, उसकी चूत बहुत स्वादिष्ट थी, मज़ा आ रहा था, पूरी टाईट थी, वो चूतड़ उठा उठा कर चटवा रही थी, उसे भी मज़ा आ रहा था।
मैंने उसे थोड़ी देर बाद घोड़ी बनाया और अब सिमरन फिर से मूड में आ गई थी, वो भी साथ में डोगी स्टाइल में आ गई।
मैंने ज्योति की चूत पर थोड़ा थूक लगाया और अपना लौड़ा उसकी चूत पर रखा, थोड़ा सा झटका दिया, उसकी चीख निकल गई।
उसकी चूत से खून निकलने लग गया, वो रोने लग गई!
मैं थोड़ा रुका, फिर मैंने एक झटका मारा और उसके बूब्स पकड़ लिए और दबाने लगा।
उसको अब मज़ा आने लगा।
मैंने अपने झटके को बढ़ा कर पूरा लौड़ा अंदर डाल दिया, वो मजे से अपने चूतड़ हिलाने लग गई!
थोड़ी देर के बाद मैंने सिमरन की गाण्ड के छेद पर अपना लौड़ा टिकाया और अंदर झटका मारा, एक झटके मे ही वो मेरा पूरा लौड़ा अंदर ले गई।
मैंने खूब दबा के अंदर झटके मारे, वो ‘मर गई… आआ… आअहह… हहाआआअ… मर गई…’ बोलती रही और मैं पूरे ज़ोर से उसकी गाण्ड चोदता रहा।
अब ज्योति भी सीधी होकर लेट गई, मैंने सिमरन की गाण्ड के बाद ज्योति की चूत में डाला ओर फिर से उसे दबा के बजाया।
अब मेरा होने वाला था, वो दोनों भी झड़ने वाली थी, अब दोनों को बेड के कोने पर घोड़ी स्टाइल से खड़ी किया, एक बार एक की चूत फिर दूसरी की चूत, दोनों की चूत मारी!
अब ज्योति की छूट एकदम कस गई और वो झड़ गई।
सिमरन ने फिर से अपनी टांगों के ऊपर बैठा कर चुदाया, अब वो मेरे होंठोंम पर किस कर रही थी, सिमरन मेरे ऊपर झटके मारते मारते झड़ गई।
मैं खड़ा हुआ!
मेरा लौड़ा पूरा तना हुआ था, दोनों चूसने लग गई।
थोड़ी देर बाद मेरे लौड़े ने पिचकारी मारी ओर मैंने दोनों के मुख भर दिए, दोनों मजे से मेरे लण्ड का जूस पी गई।
फिर हम तीनों नंगे सो गये!
यह था मेरा पहला सेक्स!